गरीबी-खाद के मुद्दे पर बुंदेलखंड में अखिलेश यादव ने भाजपा को घेरा, कहा- सपा आई तो यहां के किसान उगाएंगे दो फसलें

चुनावी सरगर्मियों के बीच पूर्व सीएम और सपा प्रमुख अखिलेश यादव विजय रथ यात्रा लेकर ललितपुर पहुंचे। यहां जनसभा को संबोधित करते हुए पूर्व सीएम ने गरीबी, खाद के संकट के मुद्दे पर सरकार पर निशाना साधा।

Arvind Singh ParmarArvind Singh Parmar   3 Dec 2021 6:44 AM GMT

गरीबी-खाद के मुद्दे पर बुंदेलखंड में अखिलेश यादव ने भाजपा को घेरा, कहा- सपा आई तो यहां के किसान उगाएंगे दो फसलें

विजय रथ यात्रा के दूसरे दिन ललितपुर पहुंचा था पूर्व सीएम अखिलेश यादव का काफिला। फोटो- अरविंद सिंह परमार

ललितपुर (उत्तर प्रदेश)। साल 2017 में खो चुकी चुनावी जमीन की तलाश सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव अपनी तीन दिन की विजय रथ यात्रा के बुंदेलखंड में दौरान मौजूदा भाजपा सरकार को जमकर घेरा। खाद, संकट, लॉकडाउन से लेकर उन्होंने लखीमपुर खीरी केस और महंगाई के मुद्दे पर मौजूदा सरकार की नाकामियां गिनाईं। 2 दिसंबर (गुरूवार) को यात्रा के दूसरे दिन ललितपुर गिन्नौटी बाग में चुनावी सभा को संबोधित अखिलेश यादव ने बुंदेलखंड में गरीबी की मुद्दा उठाया।

यूपी की मौजूदा सरकार की नीतियों पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, "सबसे ज्यादा गरीब लोग कहीं हैं तो वो बुंदेलखंड में हैं बुंदेलखंड में ही सबसे गरीब हैं तो वो ललितपुर और महोबा में देखाई देते हैं।' पूर्व सीएम नीति आयोग की हालिया रिपोर्ट में यूपी में गरीबी को लेकर सरकार पर हमलावर रहे।

भाजपा के साढे़ चार के कार्यकाल पर प्रश्न चिन्ह खड़े करते हुए पूर्व सीएम ने कहा कि "इन सालों में जितनी दुःख तकलीफ परेशानी गरीबों को मिली वो सरकार ने दी हैं, ऐसी तस्वीरे कौन भूल सकता हैं, जब लॉकडाउन लगा था, लोग पलायन करके पैदल आये। जब हमारे देश का बंटवारा हुआ तभ भी ऐसा नहीं हुआ। भाजपा सरकार ने उत्तर-प्रदेश सीमा में घुसने नहीं दिया। वो गरीब भूखे प्यासे बिना खाये पिये हफ्तों चले सरकार ने इंतजाम नहीं किया।"


बुंदेलखंड के 7 जिलों की 19 सीटों पर नजर

उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड में ललितपुर, झांसी, जालौन, हमीरपुर, महोबा, चित्रकूट और बांदा जिले आते हैं। इन जिलों की कुल 19 विधानसभा सीटें हैं, विधानसभा 2017 के चुनाव में बीजेपी का पूरी तरह के सभी सीटों पर कब्जा हैं। वहीं सपा बसपा और कांग्रेस का सूपड़ा साफ था।

बुंदेलखंड के आल्हा उदल की नगरी महोबा राजनीति का केन्द्र बनी हुई है। नबम्बर माह में देश के प्रधानमंत्री ने अर्जुन सहायक परियोजना का लोकार्पण कर चुनावी सभा को संबोधित कर चुके हैं। उससे पहले उज्जवला योजना 2 का शंखनाद पीएम मोदी महोबा से ही किया था। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी महोबा में रैली कर चुकी हैं। इसके बाद अब सपा प्रमुख ने विजय रथ यात्रा के साथ दस्तक दी है।

यूपी विधानसभा चुनाव 2022 नजदीक आते यूपी में पूर्वांचल और बुंदेलखंड में ज्यादा हलचल है। बुंदेलखंड में भाजपा 2017 की तरह अपना जनाधार कायम रखने को तत्पर है तो वहीं विपक्षी पार्टियां बुंदेलखंड में गरीबी, बेरोजगारी, किसान और महंगाई के मुद्दे को उठाकर अपनी खोई सियासी जमीन तलाश रही हैं।

खाद संकट और अन्ना पशु की समस्या पर सरकार को घेरा

गुरुवार को महोबा के बाद ललितपुर के गिन्नोटी बाग मैदान में चुनावी सभा को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव ने कहा खाद की समस्या पर चुटकी ली। उन्होंने कहा, 'यहाँ तो खाद के लिए किसानों की जान चली गई कोई सोच नहीं सकता कि खाद के लिए किसान घर से निकले हो और उन्हें जान देनी पड़ी हो। दुनिया में ऐसा कहीं नहीं हैं। किसान के सामने संकट हैं वो फसल पैदा नहीं कर पाते।"

उन्होंने कहा, "अब समाजवादी सरकार बनेगी तो इंतजाम करेगें। बुंदेलखंड के किसान दो फसले लेगें, जिस दिन वो दो फसलें लेने लगेंगे, उस दिन बुंदेलखंड का किसान खुशहाल बन जायेगा।"

अखिलेश यादव ने मंच से किसानों से पूछते हुऐ कहा, "किसान भाईयों बताओ आप की आय दोगुना हुई कि नहीं हुई?

सामने बैठी भीड़ से आवाज़ आई नहीं हुई। जिस पर अखिलेश यादव ने कहा, "ना जाने किन किसानों की बात कर रहे थे भाजपा पार्टी के लोग। यहाँ तो नहीं हुई किसान कि दो गुना आय। ऊपर से अन्ना पशुओं का भी इंतजाम नहीं हुई किसानों की फसलें चर जाते हैं भोगता किसान हैं।"

पूर्व सीएम ने किसानों से कहा, "हम लोग विकास में आगे बढ़ने का काम करेगें। अपने किसानों को खुशहाल बनाने के लिए नई से नई योजना लानी पड़े तो हम लेकर आयेगें। चिलमजीवी लोग उत्तर प्रदेश को आगे नहीं ले जा सकते।"

महंगाई के मुद्दे पर भाजपा को कोसते हुऐ अखलेश यादव कहते हैं, "महंगाई जानबूझकर बढ़ाई जा रही हैं अगर ये चाहते तो महंगाई रोक सकते थे सरकार महंगाई नहीं रोक पाई।

सपा प्रमुख ने जनसभा में नोटबंदी से लेकर कोरोना महामारी के दौरान ऑक्सीजन तक का मुद्दा उठाया। अखिलेश यादव ने कहा, "नोटबंदी हुई तो लाईनें में लगे हम। जब बीमारी आई तो दवा, आक्सीजन और बेड के लिए अस्पतालों की लाईनों में लगे हम। कैसे भाजपा के लोग हैं। इस बार वोट की लम्बी-लम्बी लाईनों में लग जाना एक-एक वोट इनके खिलाफ डाल देना, लाइन का पता नहीं चलेगी कि कहाँ चली गई।" ललितपुर में जनसभा के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने बानपुर स्थित वीर गांव में महाराजा खेत सिंह जूदेव की मूर्ति का अनावरण भी किया।

ललितपुर के बानपुर स्थित वीर गांव में महाराजा खेत सिंह जूदेव की मूर्ति का अनावरण करते सपा प्रमुख।

चुनाव आ गया है तो झांसी के लोगों को मिसाइल का सपना दिखाया जा रहा है- अखिलेश

विजय रथ यात्रा के आखिरी दिन 3 दिसंबर को झांसी में पत्रकारों को संबोधित करते हुए पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने कहा, "बताइए जिन्होंने किसानों पर जीप चढ़ा दी उनके साथ सरकार खड़ी है, उन्हें बचा रही है। अब चुनाव आ गया तो मिसाइल का सपना दिखा रहे हैं झांसी के लोगों।"

उन्होंने आगे कहा कि सपा के लोग बड़े सपने देखते हैं इसलिए आपके झांसी में सैनिक स्कूल बना है, 500 बेड हॉस्पिटल बना है। फ्लाईओवर समाजवादियों द्वारा बनाया गया है जिसका नाम उन्होंने अपने नाम कर लिया।"

उन्होंने कहा, "टीईटी परीक्षा पेपर लीक मामले में जो पकड़ा गया है वह CM के गृह जनपद गोरखपुर का है। अब तो UP के नौजवान इंतजार कर रहे हैं क्या बेरोजगारी पर बुलडोजर चलेगा कि नहीं चलेगा? यहां के लोग अब भारतीय जनता पार्टी के झांसे में आने वाले नहीं हैं। चुनाव आ गया तो कह रहे हैं कि लैपटॉप, टेबलेट बाटेंगे, स्मार्ट फोन देंगे। अपनी माताओं बहनों को जो हम सम्मान देते थे, समाजवादी पेंशन से इस महंगाई के दौर में अगर जरूरत पड़ी तो उसे 3 गुना करने का काम करेंगे।"



Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.